ये शाम और ये दूरी By Ankita & Shikha

team 2 (2)

जोड़ी नंबर 2 : Ankita Chauhan & Shikha Saxena

कहानी : ये शाम और ये दूरी


“इतना नाराज़ हो…?” क्रुति ने मासुमियत से पलकें झपकाते हुए पूछा।

“तुम्हें फर्क पड़ता है..?” अक्षर ने भौंहे चढ़ाते हुए सवाल पर सवाल रख लिया।

“पड़ता है ना… देखो इतना पड़ता है …उम्म नहीं इससे थोड़ा ज्यादा” क्रुति ने अपने टैडी बियर को संभालते हुए अपनी बाहें फैला दी”

“रहने दो तुम…कितना मुश्किल से सब कुछ प्लान किया था…तुम कभी कोशिश ही नहीं करती हो…मुझे समझने की” अक्षर नाराज़ था…बेहद नाराज़। तीन दिन बाद वो अपना घर अपना शहर छोड़ कर जा रहा था…नाराज़ था, क्रुति से नहीं इस रवायत से..कॉलेज़ से निकलते ही प्लेसमेंट ठीक है पर ये इतनी जल्दी जॉइन क्यूँ करना पड़्ता है…अक्षर ने ये तीन दिन बस क्रुति के साथ बिताना चाहता था.. दोस्तों तक से झूठ बोल दिया था कि काफी डॉक्यूमेंट्स इकठ्ठे करने हैं…लेकिन क्रुति ने दो दिन पता नहीं कौन सी बुआ की बेटी की शादी में निकाल दिए थे…।

और आज जब मैडम पधारी तो इतनी बेफिक्र जैसे कुछ हुआ ही नही…!

क्रुति ने महसूस किया था जो अक्षर बोल नहीं पा रहा था…

वो थोड़ा रुककर बोली —“मुझसे दोस्ती करोगे…तुम ऑक्सीजन मैं हाईड्रोजन, हमारी कैमिस्ट्री एकदम पानी की तरह है”

अक्षर अपनी मुस्कान छुपाते हुए बोला — “सारा शहर मुझे लॉयन के नाम से जानता है आज मेरे पास बाईसेप्स हैं, चार्मिग लुक्स हैं, ये टैडी बियर इधर दो तुम मुझे…हाँ अब टैडी भी है…तुम्हारे पास क्या है?”

“मेरे पास…मेरे पास प्रेम है…माई लार्ड, भरपूर प्रेम” क्रुति ने होंठों को थोड़ा दबाते हुए कहा।

“तुम्हारी जैसी लड़की फ्लर्टिंग के लिए नहीं इश्क के लिए बनी है…और इस्स्स्स्क करने की इज़ाज़त मुझे वक़्त दे नहीं रहा..इतनी जल्दी जॉइनिंग मिल गयी, यार ..”

क्रुति ने अपनी उदासी को अपनी हंसी में छुपा लिया…अक्षर के हाँथों से टैडी बियर छीनते हुए बोली— “ जॉब ना हुई…सात साल की कैद हो गई…इतना रोते हो…एडजस्ट कर लेंगे यार ..दोस्ती की है निभानी तो पड़ेगी”

“पुष्पा! आई हैट दिस वर्ड…दोस्ती…दोस्ती नही है मैडम….खालिश इश्क है तुमसे…अंगूठी या माँ के कड़े नहीं नहीं है मेरे पास…लेकिन मेरे पीछे से…ये अपना दिल-विल मत बाँट देना किसी को…समझी?”

क्रुति ने शरारती निगाहों से अक्षर को देखते हुए बोली— “उम्म! कोशिश करूग़ी…बाकी तुम्हारी परफार्मेंस पर डिपेंड करता है…कॉल्स-वॉल्स टाइम पर नहीं आए तो…!”

“तो क्या..ओएएएए… खामोश..!”


Penned by Writer Duo

Ankita Chauhan @_ankitachauhan

&

Shikha Saxena @shikhasaxena191

One Comment Add yours

  1. YaY..!
    Seeming more beautiful here.. !
    bit of *Shoulder Dance*

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s