Mausamon Ki Karwat : Shishir Somwanshi

Seasons have memories, imprints of suns and moon gone by. The sky is fooled into revivals, yet here we are, playing same memory over and  over again. Here is one poem that will seep into you like unforgotten sequences.

Anuradha


Story Title: मौसमों की करवट
Writer: Shishir Somvanshi @Shishir_Som

This poem denotes the value of remembrance of the lover and how the re-occurrence of seasons brings back fond memories and charm to otherwise dull life. Inspiration is thus a memory.

shishir pic for poem

बिल्कुल वैसे ही जब
मौसमों की करवट पर,
पेड़ों के पत्तों का रंग
बदलता है।
ठीक वैसे ही
हवा बहती है
अपनापे से
मुझको छूकर।
याद आता है कुछ
तस्वीर सा आँखों में
उभर आता है।

काम मौसमों का
और क्या है?
कभी तपना
तरसना और बरसना
कभी बेबाकी से-
सारी साज़िश तो यादों को बचाने की है।

हर याद का
चेहरा हो
ज़रूरी तो नहीं,
और यह भी नहीं
होठों से कोई नाम
पुकारा जाए

कभी जब
मौसमों की
आहट पर ,
पेड़ के पत्तों पर
जो नज़र जाए।
कोई अपना सा
हवा का झोंका
तुमको छूकर
अगर गुज़र जाए।
किसी बीते हुए
मौसम की
याद कर लेना।

 

3 Comments Add yours

  1. Bahut khoob…

    काम मौसमों का
    और क्या है?
    कभी तपना
    तरसना और बरसना ….

  2. saurav says:

    साफ सुथरा लेखन पढकर अच्छा लगा।
    लिखते रहें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s