Week 17 : कितने बुद्ध

1234567891011121314151617181920212223

11 Comments Add yours

  1. kush052 says:

    बेहद खुबसूरत कहानियाँ,
    “क़ैदी” मुझे सबसे प्रभावी लगी (मत पुछना क्यों ?)
    इसके अलावा सिद्ध बाबा, मरीचिका, विश्राम, उजाला भी पसन्द आई, “बुद्धु या बुद्ध” में विशाल भाई के नजरिए को सलाम, हेताक्षि की कथाकथन की प्राकृतिक प्रतिभा उसे सबसे अलग बनाती है…
    सभी को शुभकामनाए 🙂

    शुक्रिया टीम आज सिरहाने & शिशिर सर 🙂

  2. Fazal Abbas says:

    कहानियाँ बार बार पढ़ने के बाद ही पूरी समझ में आयेंगी। मुझे एक जो स्टाइल की वजह से बहुत अच्छी लगी वह है बिहान। मंटो की कई कहानियाँ खत्म होने के कई दिन बाद समझ में आती थीं।ये भी ऐसी लगी। कहानी लिखने की किताब मिलनी चाहिये।

    1. Navneet says:

      जानब! आप ने तो वह इनाम दे दिया जिसके लिए सारी जिंदगी की मेहनत कम है। कहाँ मंटो साहब और कहाँ मैं! आपने इतने ध्यान से पढ़ा इसके लिए आभार! 💐💐💐💐

  3. rahulshabd says:

    इस बार सभी कहानियों को पढना एक सुखद अनुभव रहा
    सभी लेखकों ने स्तरीय लघु कथाएं लिखीं हैं।
    सिद्ध बाबा,और विश्राम, मुझे सबसे उत्तम लगीं।
    सभी लेखकों ढेरों शुभकामनाएं बस ऐसे ही लिखते रहिए।

  4. ajaypurohit says:

    शिशिर जी, यूँ तो सभी कहानियाँ एक से बढ़ कर एक हैं, किंतु इन में १, २ या ३ का selection अपने आप में एक अत्यंत दुर्लभ कार्य है । आपने इस बार विजेताओं में मुझे सम्मिलित किया उसके लिये धन्यवाद व आभार । विशेष टिप्पणियाँ लेखकों को प्रोत्साहित करने के दृष्टिकोण से की गयी हैं और ये ही शायद इस मंच की ख़ूबी है ! अनुराधा जी को इस के लिये धन्यवाद देना चाहूँगा ।

    नया layout बेहद प्रभावशाली है ! शुभकामनाएँ

    1. AS says:

      Sitki kaam kar gayi.. 🙂 thank you

  5. हर कहानी का इतना सूक्ष्म निरीक्षण और मूल्यवान सुझाव ..इसके लिए शिशिर जी को बहुत-बहुत धन्यवाद और इतनी खूबसूरत कहानियाँ ..पढ़कर दिल खुश हो गया, इन सब के लिए प्रेरित करने के लिए आज सिरहाने बधाई की पात्र है ।

    1. AS says:

      Thank you 🙂

  6. Jagrati Mishra says:

    सभी कहानियाँ प्रभावित करती हैं । प्रश्न और दूसरा गौतम..ज्यादा अच्छी लगीं । शिशिर सर के दिये गये सुझाव सबसे बेहतरीन हिस्सा हैं EKEKES का…:)
    आज सिरहाने…..THANK YOU 🙂 🙂

  7. sacredheartsip says:

    लालच एक कला है…. ये ad शायद मेरे लिए ही बन था…
    शिशिर सर की किताब के लालच ने मुझसे २ कहानियां लिखवा ही दी…
    हालांकि उम्मीद नहीं थी जीतने की फिर भी..
    #ASMandali के प्रोत्साहन के लिए अब शुक्रिया शब्द इस्तेमाल करना अच्छा नहीं लगता
    पिछले २ हफ्ते में EKEKES का जो कायाकल्प हुआ है वो सराहनीय है
    हर एक कहानी को पढ़ना और इतनी सूक्ष्म समीक्षा करना बहुत ही कठिन कार्य है
    लेखकों का उत्साह बढ़ने के लिए और उनमे सुधार की प्रवर्ति जगाने के लिए आभार

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s