13 Comments Add yours

  1. sacredheartsip says:

    Best I read on Roshini.. brilliantly written..

    1. A poem becomes ‘the best’ when ‘the best’ comes to read and appreciate.
      Thanks.

  2. बहुत अच्छे सर। क्या खूब कविता कही है। मन की बात के साथ साथ बेहतरीन सन्देश। बस इक बात पूछनी थी ‘किसलय’ का अर्थ बता दीजिये। _/\_

    1. धन्यवाद! ‘किसलय’ पेड़ों की नयी कोमल पत्तियां होती है, हल्की गुलाबी आभा लिए। किसलय नयी आशा है, नयेपन का सन्देश है।

  3. बहुत खूब सर। बहुत खूबसूरती से अपने मन के विचारों को व्यायक्तकिया एवं बेहतरीं सन्देश भी दिया। एक ज़रा किस्मय का अर्थ बतला दीजिए। _/\_

  4. Archana Aggarwal says:

    अद्भुत लेखनी

    1. बहुत धन्यवाद।

  5. Shishir Somvanshi says:

    उन्नत स्तर का लेखन। स्वागत है।तथापि प्रथम खंड ही पर्याप्त है। काव्य सीमित में सब कहने की विधा है।

    1. आपने सराहा, थोडा उचक गया हूँ।
      आभास था तनिक कि अतिरेकी कुछ भी कविता को निर्बल बनाएगा, पर मेरे कच्चेपन का परिणाम है वह।
      आभार।

  6. शिशिर सोमवंशी says:

    उन्नत स्तर का लेखन। स्वागत है। तथापि प्रथम खंड ही पर्याप्त था।

  7. Rahulshabd says:

    वाह खूबसूरत…. शानदार।
    इस उत्कृष्ट कविता के लिए बधाई।

    1. पढ़ने के लिए धन्यवाद।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s