Week 21 : पहियों का सफ़र

ES W21 - 0ES W21 - 0 2ES W21 - 1ES W21 - 2ES W21 - 3ES W21 - 4ES W21 - 5ES W21 - 6ES W21 - 7ES W21 - 8ES W21 - 9ES W21 - 10ES W21 - 11ES W21 - 12ES W21 - 13ES W21 - 14ES W21 - 15ES W21 - 16ES W21 - 17ES W21 - 18ES W21 - 19ES W21 - 20ES W21 - 21ES W21 - 22ES W21 - 23ES W21 - 24ES W21 - 25ES W21 - 26ES W21 - 27ES W21 - 28ES W21 - 29ES W21 - 30ES W21 - 31ES W21 - 32ES W21 - 33ES W21 - LAST

10 Comments Add yours

  1. Shubham Bais says:

    बहुत समय बाद वापस इस मंच में प्रतिभागी हूँ, बहुत बहुत शुक्रिया आज सिरहाने।
    शिशिर सर का काम यकीनन बहुत मुश्किल है, और जिस संजीदगी से वो अपना काम कर रहे है हतप्रभ हूँ।

  2. what a great collection…i cant put one over other…all are equally good..kudos to aaj sirhane to bring hidden talent of so many out…

  3. Shubham Bais says:

    #सफ़र

    जब ट्वीटर पर ताजा ताजा अकाउंट बनाया था, तो @Sai_ki_bitiya को फॉलो करता था। अचानक एक दिन आज सिरहाने के बारे में पता चला, “संयोग” था उस वक़्त cue. और संयोग से हर दिन उस ट्वीट को देखने के बाद लास्ट डेट पे लगा कि चलो हिस्सा लिया जाए, और एक पुरानी लिखी कहानी “थैंक गॉड” मैंने सबमिट कर दी। और जीमेल में अनुराधा जी का रिप्लाई आया कि “अच्छी कहानी है पर आपकी कहानी cue से मैच नहीं करती।”
    तो मैंने भी बिना कोई मेहनत किए बस एक शब्द जोड़ दिया “संयोग” हाहा।
    जब प्रकाशित की गई कहानियां तो मुझे पता चला कि बहुत सारे लोगों ने प्रयास किया पर फिर भी उस वक़्त संख्या बहुत काम थी।
    उसके बाद 2-3 बार और मैंने अपनी प्रतिभागिता दर्शायी। और फिर मंच में मेरी प्रतिभागिता कम हो गई, पर हर बार कहानिया जरूर पढ़ता था।
    शुरुआत में 101 शब्द की लिमिट कोई खास नहीं लगती थी मुझे पर इस बार जब कहानी से बहुत काट छांट करनी पड़ी तो लगा कि असली चैलेंज यही था।
    इस बार फिर कोशिश है मेरी, ज्यादा अच्छी रचना नहीं होने पर भी सराही गई, शुक्रिया।

    ये था मेरा सफर “आज सिरहाने” के साथ, आप लोग भी अपना सफ़र साझा करें, शुक्रिया।

    1. abvishu says:

      सफ़र में शामिल होने के लिए शुक्रिया दोस्त |

  4. ajaypurohit says:

    बेहद दिलचस्प कहाँनियों का संग्रह ! शिशिर जी की कठिनाई का ज्वलंत रूप दिखाई दिया इस संपूर्ण संग्रह में । मेरा पहला impression इस चित्र के देख कुछ discouraging सा था । लगा कि इस पर क्या कहाँनियाँ बन सकती हैं । ‘आज सिरहाने’ मंच को धन्यवाद करना चाहूँगा जिसने लेखकों को प्रेरित किया ।

    मेरी कहानी को सम्मिलित कर के जो मान दिया है उसका आभार । शिशिर जी को विशेष धन्यवाद, सदैव की भाँति लेखन को प्रोत्साहन देने का । आपके comments बेहद सकारात्मक व प्रेरणादायी होते हैं ।

    सभी लेखकों को बधाई, एक से एक कथाएँ संजोने की । अपनी पसंद Twitter पर share करूँगा ।

  5. Mohammad Rizwan says:

    कहानी “छोटी सी आशा” by @rafiology, दोस्ती by @goodbutnotlucky और “लल्ला कि लाचारी” by @R_Singh04 बहुत अच्छी लगी

  6. abvishu says:

    शुभम भाई ने ऊपर सही कहा आपने १०१ शब्द में लिखना बहुत बड़ी चुनौती है और धीरे धीरे मुझे भी समझ आया की कैसे कम शब्दों में व्यक्त किया जा सकता सब |
    इस हफ्ते की सबसे खास बात की सब कहानियाँ सबको पसंद आ रही |
    किसी एक की बात कैसे करूँ जब दिल तक सब पहुँच गए 🙂

  7. दिव्या 'आईना ' says:

    सबसे पहले परदे के पीछे रह कर अक्लांत परिश्रम कर हम सभी के लिए इतनी रूचीकर चुनौतीयां बनानें और कुशलता से संपादित कराने के लिए आजसिरहाने के सभी सदस्यों को अशेष धन्यवाद।
    कोटिश: धन्यवाद हमारे प्रिय एडिटर जी को।(मेरी तरफ से दो बार धन्यवाद, दोनों कहानियों को स्थान देनें के लिए)। 😊 🙏

  8. Jagrati says:

    Some stories are different like “Nai bike” and “keemat”
    these Stories have an interesting massage.
    Chhoti si aasha, nd Sauten are my fav.

    Many Thanks to aaj sirhane and shishir ji.

  9. sacredheartsip says:

    वाह… कितनी खूबसूरत कहानियाँ आयी इस बार… पढ़ कर मन खुश हो गया । पीढ़ियों के अंतर को कम करती ये कहानियां हर उम्र को कुछ न कुछ सिखा जाती हैं। सभी कहानीकारों को नमन

Leave a Reply to Mohammad Rizwan Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s