11 Comments Add yours

  1. दिल दहल गया पढ़कर , सचमुच अविस्मरणीय

  2. बहुत अच्छे कोसेन भाई!! शब्द नहीं है, कुछ भी नहीं बचा कहने को……ऐसे ही लिखते रहिये

    1. mohdkausen says:

      शुक्रिया सतरंगी जी। आपने पढ़ा और पसन्द किया। आभारी हूँ।

  3. Aap kahani-lekhan ke ustaad ho! Behtreen!!

    1. mohdkausen says:

      आप के शब्दों के लिए शुक्रिया। ये आप का प्यार है वरना में तो बस एक छोटा सा लेखक भर हूँ।

  4. sacredheartsip says:

    पता नहीं आप ऐसे लिख कैसे लेते हैं.. यहाँ तो पढ़ा भी नहीं गया बिट्टू के आगे..

    1. mohdkausen says:

      ये संवेदना ही है जो आपकी आँसूओ में निकल पड़ती है और मेरी कलम से कागज पर निकल जाती है। बहुत शुक्रिया पसन्द करने के लिए।

  5. mohdkausen says:

    अनुराधा जी, निर्मल और प्रीत जी आप तीनो का बहुत सम्मान के साथ धन्यवाद जो आपने मुझे इस काबिल समझा। खुश रहिये।

  6. Preet Kamal says:

    Kausen ji, You deserve all the praise!! Stay blessed!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s