Best Of Swalekh : June 11

on

स्वलेख : जून 11, 2017
मार्गदर्शक : कोशिश ग़ज़ल
विषय : सवाल
चयनित रचनाए
द्वारा : सुप्रिया, अरुण 


1.
Supriya @SipSacredHeart
दर्द नारंगी क्यों नहीं होता
जब आँखें सुर्ख़ होती हैं और
चेहरा सूख-ज़र्द होता है तो
दर्द नारंगी क्यों नहीं होता
क्यों नहीं होता नभ भीग के गीला
क्यों नहीं बरसता अब्र हो कर रंगीला
क्यों दुबक इंद्रधनुष छुप जाता हे पल में
बरखा का हर दिन सतरंगी क्यों नहीं होता
दर्द नारंगी क्यों नहीं होता
क्यों किवाड़ें खोल बैठा है दिल अपने
क्यों सोच के बोले बोल के सोचे
खुद में ही उलझे मन-मस्तिक्ष के जंगी
तर्क कभी अपना मनसंगी क्यों नहीं होता
दर्द नारंगी क्यों नहीं होता
क्यों रात कोठरी में पड़ा है चाँद मुह औंधे
क्यों सितारों का पहरा उसको न छोड़े
पूनम-अमावस हठ क्यों कर बैठे
मृगांक चन्द्रमा चिरसंगी क्यों नहीं होता
दर्द नारंगी क्यों नहीं होता
Dard naarangi kyuN nahiN hota
Jab asnkheN surkh hoti haiN aur
Chehra sookh-zard hota hai toh 
Dard naarangi kyuN nahiN hota
KyuN nahiN hota nabh bheeg kay geela
KyuN nahiN barasta abr ho kar rangeela 
KyuN dubak indradhanush chhup jaata hai pal meiN 
Barkha ka har din satrangi kyuN nahiN hota
Dard naarangi kyuN nahiN hota
KyuN kiwaReN khol baitha hai dil apnay
KyuN soch ke bolay bol kay sochay 
Khud meiN hii uljhay man-mashtishk ke jangi 
Tark kabhi apna mansangi kyuN nahiN hota
Dard naarangi kyuN nahiN hota
KyuN raat kothRi meiN paRa hai chaand muNh aundhay
KyuN sitaaroN ka pahra usko na chhoday
Poonam-amawas hatth KyuN kar baithay 
MrigaNk chandrama chirsangi kyuN nahiN hota
Dard naarangi kyuN nahiN hota

2.
Arun @sudharun49
मैं तुम्हारे पास आऊँ
या दूर लौट जाऊँ?
ख़तरा उठा लूँ,
या, घुटने टिका दूँ 
तुम्हारी आँखों के पिघल 
जाने की उम्मीद में रोकूँ? 
या, पहले ही मान कर 
कि, तुम्हारी आँखें 
नहीं है मेरा घोसला, और  
उड़ जाऊँ? क्या करूँ मैं ??
जितने स्पष्ट हैं ये सवाल 
उतनी ही ‘अबूझ’ हैँ तुम्हारी
आँखों की उत्तर पुस्तिकाएँ,
कुछ तो कहो !!
MaiN tumhaare paas aaooN

Ya door laut jaaooN?
Khatra utha looN,
Ya, ghutnay tikaa dooN
Tumhari aankhoN kay pighal 
Jaanay kii ummeed meiN rokooN?
Ya, pahlay hii maan kar 
Ki, tumhari aaNkheN 
NahiN haiN mera ghosla, aur 
UR jaaooN? Kya karooN maiN??
Jitnay spasht haiN ye sawaal
Utni hii ‘Aboojh’ haiN tumhari 
AankhoN kii uttar pustikayeN
Kuchh to kaho!!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s