Best Of Swalekh : Aashiyana

स्वलेख : जुलाई 16, 2017
मार्गदर्शक : कोशिश ग़ज़ल
विषय : आशियाना 
चयनित रचनाएं


1.
Joy Banerji @JoyBanny19
मतला मावरा की छत को थामे 
मिसरे की दीवारें 
काफ़िये की खिड़की पे 
रदीफ़ के पर्दे
नज़्मों, ग़ज़लों के 
गलीचे,
मक़्ते की सांकल 
और 
तरन्नुम के कंगूरे,
कुछ ऐसा आशियाँ 
सोचा है 
तुम्हारे लिए 

2.

Nilabh @nilabh79
गाँव की कब्र पे 
खड़े मकबरे को 
इक नाम 
दिया
“शहर”।
उसके कोनों में 
बस गये 
चलने फिरने वाले 
जानवर।
उन कोनों को भी नाम मिला 
“आशियाना”।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s