Best of Sukhan : March 5, 2017

Mehfil-e-Sukhan : March 5, 2017 Mentor : Koshish Ghazal Selected Two Ghazals Best of Swalekh – Entry #1 Writer : Supriya @SacredHeartSip ज़िन्दगी को मेरी मुझको ज़िन्दगी की आदत है शिक़वा, ग़िला न मुहब्बत, फ़क़त रवायत है एक शाम थी जो ताकती थी कभी राह मेरी कुछ दिनों से उसने भी करी मुझसे बगावत है…